देवरिया ताल . Devariya Taal

Spread the love

दोस्तों स्वागत है आपका देवभूमि उत्तराखंड के आज के नए लेख में। इस लेख में हम बात करने वाले हैं उत्तराखंड का प्रसिद्ध देवरिया ताल ( देवरिया ताल . Devariya Taal ) के बारे में। दोस्तों जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि उत्तराखंड प्राकृतिक सौंदर्य परिपूर्ण एक ऐसी जगह है जो पूरे वर्ष भर में लाखों श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करती है। यहां के आवोहवा और शुद्ध वातावरण यहां आने वाले पर्यटकों को काफी लुभाता है । आज के इस लेख में हम आपको देवरिया ताल के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं इसलिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ना।

देवरिया ताल.Devariya Taal

प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण देवरिया ताल ( Devariya Taal) उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित ऊखीमठ से मात्र 14 किलोमीटर की दूरी पर एक खूबसूरत सा पर्यटन स्थल है जो पूरे वर्ष भर में लाखों पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। खूबसूरत से बांज, बुरांश और सदाबहार वृक्षों से सुसज्जित यह जगह शुद्ध हवा पानी के साथ सुकून के दो पल बिताने के लिए काफी अच्छा स्थल माना जाता है। अरे तुम्हें देवरिया ताल का नजारा काफी मनमोहक और खूबसूरत लगता है इसके आसपास बर्फ की सफेद चादर ओढ़ खूबसूरत से पर्वत और हरे भरे बुग्याल देखने को मिलते हैं। यहां से आपको नीलकंठ और केदारनाथ की चोटी भी दिखाई देती है। इसका प्रतिबिंब गर्मियों के समय में झील के जल में बहुत ही खूबसूरत दिखाई देता है।

यदि आप लोग भी एडवेंचर के शौकीन है और प्रकृति में रहकर उसकी खूबसूरती का आनंद लेना चाहते हैं तो देवरिया ताल उन स्थानों में से एक है जहां पर आप एडवेंचर के विभिन्न प्रकार के गतिविधियां कर सकते हैं। इस खूबसूरत सी जगह में आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ भी यात्रा कर सकते हैं।

देवरिया ताल की पौराणिक कहानी. Mythological story of Deoria Tal

दोस्तों देवरिया ताल की पौराणिक कहानी के बारे में कहा जाता है कि देवराज इंद्र इस स्थान पर स्नान करने आते थे। इसी स्थान पर एक इंद्र सरोवर है जहां पर देवराज इंद्र स्नान के लिए आते थे और तब से इस स्थान का बड़ा महत्व माना जाता है। लखन के सभी जिलों को किसी न किसी देवता से जोड़ा जाता है जैसे केदार ताल में भगवान श्री स्नान करने आते थे ठीक उसी तरह से इसकी भी पौराणिक मान्यता कुछ इस प्रकार से मानी जाती है।

Deoria Tal

देवभूमि उत्तराखंड में किसी न किसी मंदिर या पर्यटक स्थल या धार्मिक स्थल की अपनी पौराणिक कहानी जरूर होती है जिसके बारे में या तो हमें इतिहास के पन्नों में पढ़ने को मिलता है क्या हमें या हमे किवदंतियों उन जगहों के बारे में सुनने को जरूर मिलता है।

देवरिया ताल ( Devariya) की दूसरी पौराणिक कथा के अनुसार जब महाभारत काल के नायक पांडव वनवास काट रहे थे तो इसी झील के किनारे यक्ष ने युधिष्ठिर से सवाल किए थे। माना जाता है कि कालांतर में इस झील के किनारे मेला लगता था और जल यात्रा भी निकलती थी। ऊखीमठ के पुजारी के अनुसार ऐसा भी माना जाता है कि कालांतर में देवरिया ताल के झील का जल ओंकारेश्वर मंदिर में निकलता है।

देवरिया ताल घूमने का सबसे अच्छा समय. Best time to visit Deoria Tal

दोस्तो वैसे बात की जाए देवरिया ताल घूमने का सबसे अच्छा समय के बारे में बताना चाहेंगे कि देवरिया ताल घूमने का सबसे अच्छा समय सितंबर से अक्टूबर माह और मार्च से जून माह के बीच माना जाता है। इस समय यहां का मौसम काफी खूबसूरत होने के साथ-साथ हरा भरा भी रहता है और यहां पर आपको बर्फ से ढकी चोटियां भी देखने को मिल जाती है। हालांकि स्नोफॉल देखने के लिए सभी पर्यटन दिसंबर और जनवरी माह के बीच आते हैं। आप अपनी यात्रा को अपने छुट्टियों के हिसाब से भी प्लान कर सकते है।

देवरिया ताल के आसपास घूमने की जगह. Places to visit around Deoria Tal

दोस्तो वैसे तो देवरिया ताल के आसपास घूमने के लिए कई जगह है लेकिन इसके नजदीकी जगह की बात की जाए तो यहां पर आपको दुग्गल बिट्टा बर्ड वाचिंग के लिए और कैंपिंग के लिए पहचाना जाता है आप यहां के दर्शन भी कर सकते हैं इसके अलावा इसके नजदीक में तुंगनाथ मंदिर स्थित है आप अपनी यात्रा के दौरान तुंगनाथ मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं। किसी खूबसूरत बुग्यालों की श्रेणी में एक बुग्याल रोहिणी बुग्याल भी है जो की देवरिया ताल से मात्र 8 किलोमीटर के ट्रैक पर है। यदि आपके पास समय बसता है तो आप देवरिया ताल के बाद रोहिणी बुग्याल के ट्रैक भी कर सकते हैं।

Deoria Tal

देवरिया ताल कैसे पहुंचे. How to reach Deoria Tal

दोस्तो यदि आप भी देवरिया ताल के दर्शन करना चाहते हैं हम आपको देवरिया ताल कैसे पहुंचे के बारे में भी जानकारी देने वाले हैं।

सड़क से मार्ग से देवरिया ताल – सड़क मार्ग से देवरिया तार पहुंचना काफी आसान है। की देवरिया ताल सड़क मार्ग से मात्र 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है आप अपने नजदीकी शहर से ऊखीमठ तक बस और टैक्सी के माध्यम से भी आ सकते हैं।

रेल मार्ग से देवरिया ताल – देवरिया ताल का नजदीकी रेलवे स्टेशन कैसे आप ऋषिकेश तक रेल मार्ग के द्वारा यहां तक आ सकते हैं और उसके बाद वह ऊखीमठ तक आपको बस एवं टैक्सी के माध्यम से अपनी यात्रा करनी होगी।

हवाई जहाज से देवरिया ताल – यदि आप लोग भी हवाई जहाज से देवरिया ताल के दर्शन करना चाहते हैं आपको बताना चाहेंगे कि देहरादून का जोली ग्राउंड एयरपोर्ट देवरिया ताल का नजदीकी एयरपोर्ट है यहां से आप ऊखीमठ तक बस और टैक्सी के माध्यम से भी आ सकते हैं। सड़क मार्ग से 3 किलोमीटर के दूरी पर देवरिया ताल स्थित है।

तो यह था हमारा आज का लेख जिसमें हमने आपको देवरिया ताल के बारे में जानकारी दी। आशा करते हैं की आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। आपको यह ले कैसा लगा हमें के माध्यम से बताएं और उत्तराखंड से संबंधित ऐसे ही जानकारी युक्त ले पाने के लिए आप देवभूमि उत्तराखंड को जरूर फॉलो करें।

यह भी पढ़ें –


Spread the love

Leave a Comment

You cannot copy content of this page

×

Hello!

Click one of our contacts below to chat on WhatsApp

× Chat with us