पहाड़ों की बना की भली लगिरे लिरिक्स. Pahado ki Bana Song & Lyrics

Spread the love

दोस्तों आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको उत्तराखंड का प्रसिद्ध गाना पहाड़ों की बना की भली लगिरे सोंग लिरिक्स ( Pahado ki Bana Song & Lyrics) के बारें में बात करने वाले है। दोस्तों उत्तराखंड का यह गाना आज के समय में हर किसी पहाड़ी के जुबान से सुना जा सकता है। दरअसल यह गाना हिमानी सिंह के द्वारा प्रदर्शित किया गया है जबकि इस पहाड़ों की बना की भली लगिरे सोंग को आवाज दी गौरव बिष्ट ने। देव सोंटियल के द्वारा ही इस गाने को कंपोज्ड किया गया है। चलिए इस प्रसिद्ध पहाड़ों की बना की भली लगिरे सोंग के लिरिक्स ( Pahado ki Bana Song & Lyrics) सुनते है। आशा करते है आपको यह लेख पसंद आएगा।

पहाड़ों की बना की भली लगिरे. Pahado ki Bana Song & Lyrics

पहाड़ों की बना की भली लगिरे
पहाड़ी शृंगार में भली चागिरे
गले गलोबन्द नखे नथुली परिरे
सजी धजी आहे की हेमा में बैठी री ” -२

“नख की नथुली कानो का कनफूल
हाथ की धागुली पेरेबे मांग को सिंदूर ” -२

पहाड़ों की बना की भली लगिरे
पहाड़ी शृंगार में भली चागिरे
गले गलोबन्द नखे नथुली परिरे
सजी धजी आहे की हेमा में बैठरे बैठी री ” -२

“पहाड़ी रीतिरिवाज की भली लागिनी
लाखो की भीड़ में अनोखी दीखिने “-२

पहाड़ों की बना की भली लगिरे
पहाड़ी शृंगार में भली चागिरे
गले गलोबन्द नखे नथुली परिरे
सजी धजी आहे की हेमा में बैठी री

कथे जनि होली बानी ठानी बन
मुख न बुलानी आखो ले सां

पहाड़ों की बना की भली लगिरे
पहाड़ी शृंगार में भली चागिरे
गले गलोबन्द नखे नथुली परिरे
“सजी धजी आहे की हेमा में बैठी री ” -४

दोस्तों आपको पहाड़ों की बना की भली लगिरे सोंग लिरिक्स ( Pahado ki Bana Song & Lyrics) के बारें में पढ़ कर अच्छा लगा होगा। आपको यह लेख केसा लगा हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और यदि आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर साँझा करें।

यह भी पढ़ें : –


Spread the love

Leave a Comment

You cannot copy content of this page

×

Hello!

Click one of our contacts below to chat on WhatsApp

× Chat with us