कल्पना चौहान जीवन परिचय. Kalpana Chauhan Biography

Spread the love

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका देवभूमि उत्तराखंड के आज के नए लेख में। इस लेख में हम बात करने वाले हैं उत्तराखंड की प्रसिद्ध लोक गायिका कल्पना चौहान के जीवन परिचय ( Kalpana Chauhan Biography) के बारे में। जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि उत्तराखंड की संस्कृति और परंपराएं अपने आप में खास एवं राज्य को एक उच्च स्थान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निर्वाह करते हैं। उत्तराखंड के लोकगीत यहां के संस्कृति और परंपराओं से जुड़े हुए होते हैं। और इन्हीं लोकगीतों की वजह से उत्तराखंड को मिलती है एक खास पहचान। उत्तराखंड के लोकगीतों को अपनी मधुर आवाज प्रदान करने वाली उत्तराखंड की प्रसिद्ध लोक गायिका कल्पना चौहान अपनी मधुर आवाज के लिए पहचानी जाती है जिन्हें उत्तराखंड की लता मंगेशकर के नाम से भी पहचाना जाता है। स्लिप में हम बात करने वाले हैं उत्तराखंड की प्रसिद्ध लोक गायिका कल्पना चौहान के जीवन परिचय के बारे में। आशा करते दोस्तों की आपको हमारा यह ले पसंद आएगा इसलिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ना।

कल्पना चौहान जीवन परिचय. Kalpana Chauhan Biography

कल्पना चौहान ( Kalpana Chauhan Biography) का जन्म 8 सितंबर 1967 को मुंबई में हुआ इनके पिता का नाम श्री उमेद सिंह एवं उनकी माता का नाम श्रीमती रूपा देवी है। और उनकी पति का नाम श्री राजेंद्र सिंह चौहान हैं। उत्तराखंड की यह प्रसिद्ध गायिका ने केवल उत्तराखंड में फेमस है बल्कि उत्तराखंड के अलावा देश विदेश में भी काफी लोग इनकी आवाज के दीवाने हैं। अपनी मधुर एवं सुरीली आवाज के कारण कल्पना चौहान के प्रशंसक इन्हें उत्तराखंड की लता मंगेशकर के नाम से भी पुकारते हैं। कई में उनकी आवाज का जादू न केवल उत्तराखंड में सुनने को मिलता है बल्कि देश और विदेशों में भी इनके प्रशंसा देखने को मिलते हैं जहां पर वह उत्तराखंड की संस्कृति और परंपराओं से संबंधित लोकगीतों को आगे बढ़ते हैं।

कल्पना चौहान का बचपन. Kalpana Chauhan’s childhood

कल्पना चौहान का जन्म भले ही मुंबई शहर में हुआ हो लेकिन उत्तराखंड के साथ उनका जुड़ाव जन्म से ही रहा है। जन्म से ही वह गढ़वाली भाषा का वार्तालाप में उपयोग करते थे। सपना चौहान जी का कहना है कि मेरे घर में हमेशा से ही पहाड़ की भाषा बोली जाती है और शादी के बाद भी उन्होंने अपने बच्चों को भी गढ़वाली भाषा सिखाई। उन्हें गाने का शौक था इसलिए वह गानों का रियाज करते रहे और सबसे अच्छी बात की उन्होंने अपने इस मधुर आवाज को उत्तराखंड के लोकगीतों के लिए प्रयास किया।

कल्पना चौहान करियर. kalpana chauhan career

प्रसिद्ध लोग गायिका कल्पना चौहान जी ने 15 साल की उम्र में बॉलीवुड के मशहूर सिंगर उदित नारायण के साथ पहली बार एक गढ़वाली गाने पर परफॉर्म किया था। इस समय लोग गायिका के पिता गढ़वाल मंडल के अध्यक्ष भी थे जिस कारण से उन्हें आसानी से गाना गाने का मौका भी मिल गया था। उन्होंने अपने इस करियर में संगीत की ज्यादा ट्रेनिंग नहीं ली। और उनके बाद उनकी शादी हो गई थी। राजेंद्र सिंह चौहान से शादी होने के बाद उन्होंने कल्पना चौहान के इस गायन के कुशल रूप को जाना और उन्हें इसी क्षेत्र में कार्य करने की प्रेरणा दी। उन्होंने कल्पना चौहान के एल्बम निकालने का फैसला किया। दौरान उनकी एक एल्बम बारामास प्रस्तुत हुई जिसने उत्तराखंड के लाखों लोगों को अपना दीवाना बनाया और अपना केवल उत्तराखंड के बल्कि देश और विदेशों तक उनकी यह आवाज मधुर एवं सुरीली गीतों के लिए पहचानी गई।

कल्पना चौहान का गृहस्थ जीवन. Kalpana Chauhan’s home life

श्री राजेंद्र सिंह चौहान से प्रेम विवाह होने के बाद उनको दो पुत्रों की प्राप्ति हुई पहला पुत्र मुंबई में सिनेमैटोग्राफर है और दूसरा बेटा उनके साथ बचपन से ही गढ़वाली गीतों में काम करते आ रहे हैं। जो कि आज के समय में रोहित नेगी के नाम से एवं युवा दिलों की धड़कन बन चुके हैं। इनकी पति राजेंद्र सिंह चौहान भी पैसे में एक बहुत अच्छे म्यूजिक डायरेक्टर है और कल्पना चौहान को आगे बढ़ाने में कहीं ना कहीं उनके पति का बहुत बड़ा किरदार रहा है। उनकी वजह से ही कल्पना चौहान अपनी मदर एवं सुरीली आवाज को लोगों तक पहुंच पाई।

कल्पना चौहान के प्रमुख सम्मान. Major honors of Kalpana Chauhan

उत्तराखंड की प्रमुख लोक गायिका कल्पना चौहान जी को उनकी मधुर आवाज के लिए पौड़ी गढ़वाल के क्षेत्र चंदकोर्ट ने उत्तराखंड चांदकोर्ट रत्न से नवाजा है। उत्तराखंड के महासभा ने उन्हें स्वर कोकिला की पदवी से भी सम्मानित किया है। इसके अलावा उत्तराखंड की यह महान लोक गायिका 6 विदेश टूर भी कर चुकी है।

तो यह था हमारा आज का लेख जिसमें हमने आपको उत्तराखंड की लोक गायिका कल्पना चौहान के जीवन परिचय ( Kalpana Chauhan Biography) के बारे में जानकारी दी। है कि आपको कल्पना चौहान जी के जीवन परिचय के बारे में जानकर अच्छा लगा होगा। आपकों यह लेख कैसा लगा हमें टिप्पणी के माध्यम से जरूर बताएं और उत्तराखंड से संबंधित ऐसे ही जानकारी युक्त लेख पाने के लिए देवभूमि उत्तराखंड को जरूर फॉलो करें।

यह भी पढ़ें –


Spread the love

Leave a Comment

You cannot copy content of this page

×

Hello!

Click one of our contacts below to chat on WhatsApp

× Chat with us